BJP व‍िधायक महेश स‍िंह जीना समेत पांच के खि‍लाफ FIR दर्ज, नगर आयुक्त समेत कर्मचारियों के साथ अभद्रता का मामला

Politics Uttarakhand

नगर निगम देहरादून के नगर आयुक्त और कार्मिकों से अभद्रता करने के मामले में सल्ट (अल्मोड़ा) विधायक महेश सिंह जीना और उनके चार समर्थकों के खिलाफ शहर कोतवाली में मुकदमा दर्ज किया गया है। वहीं, इस मामले को लेकर बुधवार को नगर निगम कार्यालय में कर्मचारियों ने हड़ताल कर प्रदर्शन किया। कर्मचारियों ने अभद्रता करने वालों की गिरफ्तारी की मांग की। कर्मचारियों की हड़ताल के कारण भवन कर से लेकर जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र समेत तमाम कार्य ठप रहे। इसके अलावा शहर में सफाई कर्मियों ने भी कूड़ा नहीं उठाया। शहर के तमाम वार्डों से रोजाना उत्सर्जित होने वाला करीब 400 टन कूड़ा नहीं उठा। पुलिस को दी शिकायत में नगर निगम वाहन चालक संघ के अध्यक्ष राजेश कुमार, सचिव धीरज भारती ने बताया कि मंगलवार को सल्ट विधायक महेश सिंह जीना अपने समर्थकों के साथ नगर निगम पहुंचे और वरिष्ठ लिपिक पवन थापा व कंसल्टेंट अंकुश सोनी के साथ गाली-गलौज करते हुए उन्हें जान से मारने की धमकी दी। इसके बाद विधायक जीना नगर आयुक्त गौरव कुमार के कमरे में गए और उन्हें भी गलियां दीं।
इस मामले में कोतवाली पुलिस ने विधायक महेश सिंह जीना और उनके चार समर्थकों के खिलाफ सरकारी काम में बाधा डालने और आपराधिक धमकी देने की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है। मंगलवार को सहस्रधारा रोड पर नगर निगम के पुराने ट्रेंचिंग ग्राउंड में कूड़ा निस्तारण का टेंडर परिचित को न मिलने से नाराज सल्ट से भाजपा विधायक महेश सिंह जीना समर्थकों के साथ देहरादून नगर निगम पहुंचे थे। जहां उन्होंने जमकर हंगामा किया।
आरोप है कि विधाायक ने नगर आयुक्त (आइएएस) गौरव कुमार के कार्यालय में घुसकर न केवल उनसे अभद्रता की, बल्कि नगर आयुक्त से गाली-गलौज भी कर दी। विधायक ने नगर आयुक्त पर टेंडर प्रक्रिया में भ्रष्टाचार का आरोप लगाया। विधायक के दुर्व्यवहार पर नगर आयुक्त का पारा भी चढ़ गया और उन्होंने इस्तीफा देने की भी बात कह डाली। घटना की सूचना मिलते ही नगर निगम के समस्त कर्मचारी आक्रोशित हो गए और विधायक के विरुद्ध नारेबाजी करते हुए बेमियादी हड़ताल पर चले गए। कर्मचारियों ने कहा कि जब तक विधायक माफी नहीं मांग लेते, तब तक दून शहर का कूड़ा उठान कार्य व नगर निगम के समस्त कार्य ठप रहेंगे। अब बुधवार को पहले तो सुबह शहरभर में साफ-सफाई नहीं हुई। इसके बाद घर-घर कूड़ा उठान वाहनों का संचालन भी नहीं किया गया। नगर निगम कार्यालय में कर्मचारियों ने सभी अनुभागों में ताले जड़ दिए और परिसर में प्रदर्शन किया।

गिरफ्तारी की मांग को लेकर पहुंचे कोतवाली
नगर निकाय कर्मचारी महासंघ के बैनर तले बड़ी संख्या में कर्मचारी नगर निगम में एकत्रित हुए। यहां से वह सल्ट विधायक के विरुद्ध नारेबाजी करते हुए नगर कोतवाली पहुंचे। नगर निगम कर्मचारी संघ के अध्यक्ष नाम बहादुर ने कहा कि सल्ट विधायक महेश सिंह जीना ने चार समर्थकों के साथ नगर निगम में वरिष्ठ लिपिक पवन थापा व कंसल्टेंट अंकुश सोनी के साथ गाली-गलौज की और जान से मारने की धमकी दी। इसके बाद नगर आयुक्त गौरव कुमार के कक्ष में जाकर उनके साथ भी अभद्रता की। उन्होंने विधायक पर निगम परिसर में अभद्र भाषा का प्रयोग करने और कर्मचारियों को धमकाने का आरोप लगाया। सरकारी कार्य में बाधा डालने व अधिकारी-कर्मचारियों के साथ अभद्रता व धमकी देने के आरोप में विधायक व उनके समर्थकों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तारी की मांग की।
आमजन हलकान, शहर में लगने लगे कूड़े के ढेर कर्मचारियों की हड़ताल के चलते नगर निगम में सभी कार्य ठप रहे। इस दौरान निगम में जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र बनाने व भवन कर जमा कराने समेत अन्य कार्यों के लिए बड़ी संख्या में लोग निगम पहुंचते रहे, लेकिन कार्यालयों में ताला लटका देख वह लौट गए। इधर, शहर में कहीं भी कूड़ा उठान नहीं हो सका। घर-घर कूड़ा उठान वाहन न आने से लोग परेशान रहे और कई जगह घरों का कूड़ा खाली प्लाट व नदी-नालों में फेंका गया। इसके अलावा सड़कों के किनारे भी कूड़ा पसरा रहा। शहर में रोजाना करीब 400 टन कूड़ा उत्सर्जित होता है। सफाई कर्मियों की हड़ताल जारी रहने पर गुरुवार को स्थिति और बिगड़ सकती है।