डेयरी विकास के लिए सीएम धामी का बड़ा ऐलान, मेरीनो भेड़ की संख्या बढ़ाने का है लक्ष्य

India Politics Uttarakhand

प्रदेश में उच्च गुणवत्ता की ऊन देने वाली मेरीनो भेड़ों की संख्या बढ़ाई जाएगी। इसके लिए जल्द ही ऑस्ट्रेलियन बीडर के साथ एमओयू किया जाएगा। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने इसके लिए गंभीरता से कार्य करने को कहा है। उन्होंने राज्य में डेयरी विकास के लिए 600 बहुउद्देशीय दुग्ध सहकारी समितियों की स्थापना करने के भी निर्देश दिए हैं।
बुधवार को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सचिवालय में गन्ना विकास, पशुपालन, डेयरी विकास व मत्स्य विभाग की योजनाओं की समीक्षा की। उन्होंने निर्देश दिए गए विभागीय योजनाओं को समयबद्ध के क्रियान्वित किया जाए।

50 दुग्ध उत्पादक सेवा केंद्रों की होगी स्थापना:
सीएम धामी ने राज्य में चारे की कमी के दृष्टिगत 20 फोडर एफपीओ के गठन, दुग्ध समितियों के क्लस्टर में 50 दुग्ध उत्पादक सेवा केंद्रों की स्थापना, 16 बदरी गाय ग्रोथ सेंटर की स्थापना के निर्देश दिए। उन्होंने दुग्ध समिति तथा दुग्ध संघ के कार्यों का ऑटोमेशन करने, पर्वतीय क्षेत्रों में सामुदायिक भूमि पर 10 लाख चारा पौधों का रोपण कर चारे की कमी की समस्या को हल करने, उत्तराखंड की समस्त दुग्ध समितियों तथा समस्त दुग्ध संघों को लाभ में लाने के लिए लक्ष्य निर्धारित कर कार्य करने के निर्देश दिए।
जैविक गन्ना उत्पादन को बढ़ावा देने का है लक्ष्य:
गन्ना विकास विभाग की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि उत्तराखंड की चीनी मिलों को लाभ में लाने के लिए अधिकारियों को सक्रिय होकर कार्य करना होगा। उन्होंने बाजपुर व किच्छा चीनी मिलों के आधुनिकीकरण, गन्ना बीज बदलाव, जीपीएस के माध्यम से गन्ना सर्वेक्षण का कार्य तथा प्रदेश में जैविक गन्ना उत्पादन को बढ़ावा देने के लक्ष्य को जल्द से जल्द पूरा करने के निर्देश दिए।

मत्स्य संपदा योजना का हो प्रभावी क्रियान्वयन:
मत्स्य विभाग की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने मुख्यमंत्री मत्स्य संपदा योजना का प्रभावी क्रियान्वयन सुनिश्चित करने को कहा। उन्होंने मत्स्य पालन के लिए 468 हेक्टेयर नए जल क्षेत्रों के विस्तार, 863 नए ट्राउट रेसवेज के निर्माण, 33000 टन मत्स्य उत्पादन और 80 लाख वार्षिक ट्राउट मत्स्य बीज उत्पादन के लक्ष्य को समय से पूरा करने के निर्देश दिए। बैठक में विभागीय मंत्री सौरभ बहुगुणा, अपर मुख्य सचिव आनंद बद्र्धन, सचिव डा आर मीनाक्षी सुंदरम व डा बीवीआरसी पुरुषोत्तम के साथ ही संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।