सोमेश्वर रेंज में जंगल में लगी आग बुझाने के दौरान वनाग्नि की चपेट में आए एक युवक की मौत

Social Media Viral Uncategorized Uttarakhand

कुमाऊं के जंगलों में फिर से आग लगी है। सोमेश्वर रेंज में जंगल में लगी आग को बुझाने के दौरान एक युवा वनाग्नि की चपेट में आ गया। वहीं, दो दिनों से चंपावत के लोहाघाट शहर के निकट बनीगांव का जंगल जल रहा है।

कुमाऊं के जंगलों में सूरज की गर्मी से फिर से आग लगी है। सोमेश्वर रेंज में जंगल में लगी आग को बुझाने के दौरान एक युवा वनाग्नि की चपेट में आ गया। अगले दिन उसका अधजला शव मिला। जंगल में लगी आग ने इस रेंज में अब तक पांच लोगों को मार डाला है। सेना के सैनिकों और वन विभाग की टीम ने रानीखेत में छात्रावास और आबादी क्षेत्र तक पहुंची आग पर काबू पाया।

दो दिनों से चंपावत के लोहाघाट शहर के निकट बनीगांव का जंगल जल रहा है। आग ने उतीश, चीड़, देवदार, बुरांश, बांज, फल्यांठ और अन्य जड़ी बूटियों के पौधों को जलाकर राख कर दिया। रेंजर दीपक जोशी ने बताया कि वनाग्नि को नियंत्रित करने की कोशिश की जा रही है। शुक्रवार सुबह, बृहस्पतिवार को नैनीताल जिले में रामनगर वन प्रभाग की फतेहपुर रेंज में और बेतालघाट ब्लॉक के जंगल में लगी आग पर नियंत्रण किया गया। पिथौरागढ़ में देर रात तक जंगल सुलगता रहा, जिससे धुंध फैली है।

शुक्रवार को वन महकमे ने जंगल की आग पर एक बुलेटिन जारी किया, जिसमें बीते 24 घंटे में कुमाऊं में जंगल की आग की एक घटना का उल्लेख किया गया है। हकीकत इसके विपरीत है। कुमाऊं में वनाग्नि केवल दो जगह हुई है: अल्मोड़ा, चंपावत और नैनीताल जिले में। शुक्रवार को गढ़वाल में नौ, कुमाऊं में एक और वन्यजीव क्षेत्र में एक जगह वनाग्नि की घटना हुई, अपर प्रमुख वन संरक्षक निशांत वर्मा ने बताया। 17 मई तक कुमाऊं में 577 जंगलों में आग लगी हैं  इसमें 817 हेक्टेयर क्षेत्रफल में वन संपदा को नुकसान पहुंचा है। प्रदेश में वनाग्नि की 1,086 घटनाओं में 1,467 हेक्टेयर जंगल प्रभावित हुआ है।

जंगल की आग में जलने से युवक की मौत हुई है। आग लगाने वालों के खिलाफ केस दर्ज होगा। पीड़ित परिवार को जल्द ही मुआवजा दिया जाएगा।